Swaraj Tractor History in hindi 2021 | Mahindra

नमस्कार किसान भाईओ स्वागत है आपका हमारी वेबसाइड पे दोस्तों आज हम यहाँ बात करने वाले है स्वराज ट्रेक्टर के इतिहास के बारे में स्वराज ट्रेक्टर की शुरुआत कहा हुई स्वराज का पहला ट्रेक्टर कौनसा था स्वराज पहले कौनसा इंजन इस्तेमाल करता था और अब कौनसा इंजन यूज़ करता है आखिर स्वराज ने महिंद्रा का हाथ क्यों पकड़ा शुरुआत से अब तक का सफर सब आज हम आपको बताने वाले है ये सब के लिए हम ने बहोत रिसर्च किया है.


दोस्तों में  स्वराज एक भारतीय शुद्ध ट्रेक्टर है ये भारत में सबसे पहले वोही बिलकुल देसी तरीके से निर्माण किया जाने वाला ट्रेक्टर है कोई भी पार्ट्स बहार से न मंगाकर भारत का ही टेक्नोलॉजी और डिज़ाइन को इस्तेमाल करके निर्माण किया जाने वाला भारत का सबसे पहला ट्रेक्टर है


दोस्तों स्वराज की कहानी शुरू होती है AUG1965 से जब भारत के किसान खेती करने के लिए दूसरे देशो के ट्रेक्टर ऊपर निर्भर रहते थे उन्हें ट्रेक्टर को बहार से आयत करना पड़ता था जिससे उन्हें ज्यादा नगद देना पड़ता था

और ट्रेक्टर के स्पेयर स्पार्ट भी आसानी से नहीं मिलते थे इसी समस्या को भारत सर्कार ने देखा और तय किया की भारत में भी एक स्वदेशी ट्रेक्टर प्लांट बनानेको जहा साल भर में लगभग 20000 ट्रेक्टर की उत्पादन हो सके और य ट्रेक्टर निर्माण कार्य का भर CMERI को दिया गया था इस कंपनी के पास उस वक्त कोई अनुभव नै था इसलिए रूस की तकनिकी और वित्तीय सहायता के मदद से भारत में


एक ट्रेक्टर प्लांट बनाने को रूस को कहा लेकिन रूस उस वक्त भारत में पहले से ही कुछ सेक्टर पर निवेश कर चूका था इसीलिए कुछ और निवेश करने के लिए मना कर दिया फिर क्या होता भारतीय भी हमेशा से ही जिद्दी स्वाभाव के

होते है उस वक्त CMERI के डिरेक्टर मनमोहन सूरी जी थे वे एक मिकेनिकल इंजीनियर थे इंडियन रेलवे में ग्यारह साल काम कर चुके थे उन्होंने सोचा हम भारत के अंदर खुद के डैम पर एक स्वदेशी ट्रेक्टर बनाएंगे ये बात


उनके सीनियर को कहा और वे ये बात पर सहमत हुआ और ट्रेक्टर बनाने की मंजूरी दे दी उस वक्त किसीको भी ट्रेक्टर की डिज़ाइन तकनिकी के बारे में कोई अनुभव नै था सिर्फ मनमोहन जी एक अकेला इंजीनियर थे मनमोहन जी और उनके पांच लोगो की टीम पहले सभी जगह गुम के ट्रेक्टर की डिज़ाइन और तकनिकी के ऊपर स्टडी की ।

MAY1967 में भारत का सबसे पहले परिक्षण के लिए एक सूचि तैयार की गई परिक्षण के लिए भेजा गया तो तो सबसे पहले नया मोडल फेल हुआ था उसी के बाद दूसरा OCT1968 में और जब उसको परिक्षण के लिए भेजा गया


तो नया मोडल सुहागया वासतः हो गया उसी के बाद तीन और प्रोटोकाइट MAY1969 तैयार किया गया और तीन अलग अलग जगह बुदनी पंतनगर लुधियाना कृषि विद्यालय को परिक्षण के लिए भेजा गया और ट्रेक्टर को पूरी तरह जाँच किया गया APRIL1970 तक 1500 से अधिक जानते तक फिल्ड वर्क का रेकॉर्ड प्राप्त किया गया अबतक ट्रेक्टर पूरी सफलता पा चूका था अब सब उसको अच्छा नाम देना बाकि था


जो भारतीय लोगो को बोलने में आसानी हो और बोलते ही एक अनुभव हो ऐसा एक नाम सोचा गया फिर उसे नाम दिया गया स्वराज और ये नाम को श्रीमती इंदिरा गाँधी ने तुरंत मंजूरी दे दी और अब स्वराज ट्रेक्टर को पोलिटिकल और नौकर सहित प्रेसर को गुजरना बाकि था स्वराज ट्रेक्टर को बारह सर्कार का यानि नेशनल इंडस्ट्रियल डेवलोपमेन्ट कॉरपोर्रेशन द्वारा स्वीकृति करना बाकि था


उस वक्त NIDC को दो ट्रैक्टरो में से एक ट्रेक्टर को भारत में लॉन्च करने के लिए चुनना था एक था जानामाना सार्वजनिक कंपनी HMT जो ज़ीटर के साथ मिलके भारत में ट्रेक्टर बनाने के लिए आया था दूसरे और था हाली में नया नया

स्वदेशी ट्रेक्टर स्वराज फिर NIDC ने HMT को चुना ज़ीटर की टेक्नोलॉजी उस वक्त बहुपत फेमस था जब की स्वराज उस वक्त नया नया जन्म लिया था इसलिए NIDC ने स्वराज का भरोसा नई किया स्वराज की टीम उस वक्त खामोश हो चुकी थी ठीक उसी वक्त एक ऐसी जगह से बुलावा आया जहसे किसी ने कुछ सोचा भी नहीं था पंजाब को उस वक्त ट्रेक्टर की ज्यादा मात्रा में जरुरत थी इसीलिए पंजाब सर्कार ने स्वराज ट्रेक्टर को अंदर ले लिया और वही से शुरू हुआ स्वराज ट्रेक्टर का भविष्य।


पंजाब ट्रेक्टर लिमिटेड कंपनी अधीन स्वराज ट्रेक्टर MARCH1972 में शुरू हुआ और 13APRIL1974 को कॉमर्शियली स्वराज ७२० २६.५HP  का ट्रेक्टर का पहला बेच वितरित किया गया दसक के अंत तक 2700 से अधिक ट्रेक्टर बेचा जा चूका था

उसके बाद PTL के खुद की R@D प्रस्तुत किया एक बेहतरीन मोडल स्वराज 735 सं 1975 में लॉन्च किया ये मोडल किसानो को काफी ज्यादा पसंद आया फिर उसके बाद 1979 में स्वराज ७२० मोडल लॉन्च किया 1980 में एक बड़ा कदम आगे बढ़कर स्वराज ने


एक कम्बाइन हार्वेस्टर लॉन्च किया जो स्वराज 8100 उसका मोडल नाम था फिर उसके बाद 1983 में स्वराज 855 जोकि एक 50HP ट्रेक्टर भी लॉन्च किया कुछ साल बाद स्वराज ने और भी बेहतर इंजन डेवलप करने के लिए

किरलोस्टर इंजिन के साथ मिलकर उनकी टेक्नोलॉजी और फाइनेंसियल पांच तरह की 20 -80HP तक का ट्रेक्टर बनाना 1986 में चालू किया फिर उस वक्त आयल इंजन बनाने में महारथ हासिल कर चूका था उसके बाद 1975 में मोहाली की चप्पल चेरी में और प्लांट तैयार किया गया जहा 12000 ट्रेक्टर हर साल बनता था


स्वराज अब तक 15LAKH से ज्यादा ट्रेक्टर बेच चूका था और अपनी पुराने रेकॉर्ड को तोड़ के फिर से दूसरे सबसे ज्यादा ट्रेक्टर बेचने वाली कंपनी की लिस्ट में शामिल हो चूका था 2019 में 4WHEELDRIVE सीरीज़ को लॉन्च किया

जिसमे स्वराज 744FE 855FE और 963FE शामिल किया था उसके बाद XT सीरीज़ लॉन्च किया जिसमे स्वराज 735XT स्वराज ७४२ XT स्वराज 644 XT शमिल किया था अब तक स्वराज में आपको हर तरह के ट्रेक्टर देखने को मिल जायेगा


दोस्तों ये था स्वराज ट्रेक्टर का पूरा इतिहास शुरू से लेके आज तक का आशा करता हु के ये इनफार्मेशन आपको अच्छी लगी होगी

Related Article

John Deere E180 Lawn Mower

Eicher Tractor Price List in India

John Deere 9370R

The John Deere Tractors Models

John Deere 9370R, 9420R, 9470R, 9520R, 9570R, 9620R, 9470RT, 9520RT, 9570RT, 9420RX, 9470RX, 9520RX, 9570RX, 9620RX.



Are You Watching Mahindra Tractor Video Please Subscribe

Tractors Wale

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *