Rashtriya Krishi Vikas Yojana Scheme | राष्ट्रीय कृषि विकास योजना | 2021 | RKVY

Rashtriya Krishi Vikas Yojana Scheme | राष्ट्रीय कृषि विकास योजना | 2021 | RKVY

नमस्कार किसान भाई बहेनो, आज हम यहाँ पे Rashtriya Krishi Vikas Yojana आपकी एक परेशानी दूर करने लेके आये है, एक योजना जो सरकार ने हमारे लिए निकाली है. उस योजना का नाम है “राष्ट्रीय कृषि विकास योजना”. उस योजना का पूरा विवरण निचे विस्तार में दिया गया है. ये स्कीम आपको आवश्य उपयोगी होगी.


Rashtriya Krishi Vikas Yojana Scheme


आरकेवीवाई योजना किसान की आवश्यकता को पूरा करने के लिए 29 मई, 2007 को शुरू की गई और केंद्र और राज्य सरकारों से कृषि को फिर से जीवंत करने की रणनीति तैयार करने का आह्वान किया.

आरकेवीवाई योजना का प्रारम्भ जिला/राज्य कृषि योजना के अनुसार राज्यों को उनके कृषि एवं सबंधित क्षेत्र के विकास कार्यकलापों को चुनने की अनुमित दान करते हुए कृषि एवं सबंध क्षेत्रो के समग्र विकास को सुनिश्चित करने के लिए एक छत्रक योजना के रूप में 2007 में किया गया।

योजना ने इसकी शुरुआत से लम्बा रास्ता तय कीया है और यह दो योजना अविध (11वीं और 12वी) तक कार्यान्वित की गई है। वष2013-14 तक योजना का कार्यान्वयन १०० प्रतिशत केंद्रीय सहायता के साथ राज्य योजना स्किम के लीए अतिरिक्त केंद्रीय सहायता (एसीए) के रुप में कीया गया था।

Rashtriya Krishi Vikas Yojana Scheme

इसे १०० प्रतिशत केंद्रीय सहायता के साथ वष2014-15 में एक केंद्रीय प्रायोजित योजना में परिवर्तित किया गया। वर्ष 2015-16 से योजना की  पोषण प्रणाली को केंद्र और राज्यों के बीच 60:40 (पूर्वोत्तर राज्यों और हीमालयी राज्यों के लीए 90:10) के अनुपात में संशोधित कीया गया है। केंद्र साशित क्षेत्रो के लीए वित्तपोषण पद्धत्ति 100 प्रतिशत केंद्रीय अनुदान है।

आरकेवीवाई योजना कृषि के साथ साथ क्षेत्रो में  भी सार्वजनिक निवेश बढ़ाने के लिए राज्यों को प्रोत्शाहित करती है. आरकेवीवाई के वजह से राज्यों को अपनी आवश्यकताओं, प्राथमिकताओं और कृषि – पानी – हवा आवश्यकताओं के अनुसार योजना के तहत कार्यक्रमों का चयन, नियोजन अनुमोदन और निष्पादन के लिए छूट के साथ साथ  स्वायतत्ता प्रदान की गई है.

Krishi Vikas Yojana 2021

भारत सरकार ने 15,722 करोड़ रुपये के वित्तीय आवंटन से 3 वर्ष की अवधि के लिए जारी केंद्रीय प्रायोजित स्किम (आरकेवीवाई) को राष्ट्रीय कृषि विकास योजना कृषि क साथ साथ सबंध क्षेत्र पुनरुद्धार हेतु लाभकारी दृष्टिकोण (आरकेवीवाई – रफ़्तार) के रूप में जारी रखने के लिए मंजूरी (1 नवम्बर 2017 की स्थिति के अनुसार) दी है.

इशका लक्ष्य किशानो के प्रायशो की शुद्धिकरण के माध्यम से कृषि को लाभकारी क्रियाकलाप बनाना, कृषि व्यवसाय को बढ़ावा देना है. आरकेवीवाई-रफ़्तार के साथ, कृषि उधमिता और नवाचार को बढ़ावा देने के आलावा पहले के और बाद अवसरचना पर मुख्या ध्यान दिया जाता है.

आरकेवीवाई-रफ़्तार के साथ निचे लिखे हुवे लिस्ट में केंद्र सर्कार द्वारा अनुदान क रूप में राज्यों को निधिया प्रदान की जाएगी.

नियमित आरकेवीवाई-रफ़्तार निचे लिखे हुवे शीर्ष के साथ मानदंडों के अनुसार राज्यों को वार्षिक परिव्यय का 70 प्रतिशत आवंटन किया जायेगा:

अवसंरचना एव सम्पतिया- नियमित आरकेवीवाई-रफ़्तार परिव्यय का 50 प्रतिशत (70 प्रतिशत का)- फसल कटाई पूर्व अवसंरचना-20 प्रतिशत, फसल उपरांत अवसंरचना-30 प्रतिशत.

मूल्य से जुडी उत्पादन परियोजनाएं (कृषि व्यवसाय मॉडल) जो समेकित कृषि विकास के लिए सावर्जनिक निजी सहभागिता (पीपीपीआईएडी) परियोजनाओं सहित किसानो के लिए सुनिश्चित आय प्रदान करती है- नियमित आरकेवीवाई-रफ़्तार परिव्यय का 30 प्रतिशत (70 प्रतिशत का).

PM Krishi Vikas Yojana 2021

फ्लेक्सी निधिया-नियमित आरकेवीवाई-रफ़्तार परिव्यय का २०% (७०%). राज्य कृषि क साथ सबंध क्षेत्रो में नवाचारी कार्यकलापों के लिए अपनी स्थानीय आवश्यकताओं के अनुसार किसी भी परियोजना को सहायता देने के लिए इस निधि का उपयोग कर सकते है.

आरकेवीवाई-रफ़्तार विशिष्ट उप-योजना कुल वार्षिक परिव्यय का २०% – क्षेत्रीय क साथ समस्याग्रष्त विशिष्ट क्षेत्रो के विकास के लिए समय-समय पर भारत सरकार द्वारा यथा राष्ट्रीय प्राथमिकताओं के आधार पर.

नवाचार एवं कृषि-उद्यम विकास- वार्षिक परिव्यय का १०% – कौशल विकास क साथ वित्तीय सहायता के माध्यम से नवाचार एवं कृषि उद्यमों को प्रोत्शाहित करने के लिए. ये निधिया केंद्र पर प्रसाशनिक लागत के २% सहित केंद्र सरकार (DAC & FW) के पास रहेगी. यदि निधिया का उपयोग नहीं किया जाता है तो इनका उपयोग नियमित आरकेवीवाई एवं उप-योजनाओ में किया जायेगा.

RKVY Scheme

कृषि और संबद्ध क्षेत्रों में अपने निवेश को बढ़ाने वाले राज्यों को प्रोत्साहित करने के लिए।

कृषि के लिए कार्यक्रमों की योजना और क्रियान्वयन में राज्यों को लचीलापन और स्वायत्तता प्रदान करना

जिलों और राज्यों के लिए कृषि योजनाओं की तैयारी सुनिश्चित करना।

महत्वपूर्ण फसलों में उपज अंतराल को कम करने के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए।

किसानों को अधिकतम रिटर्न देना।

List of allied sectors covered under the scheme

फसल पति (बागवानी सहित)।

पशुपालन, डेयरी विकास और मत्स्य पालन।

कृषि अनुसंधान और शिक्षा।

कृषि विपणन।

खाद्य भंडारण और भंडारण।

मृदा और जल संरक्षण।

कृषि वित्तीय संस्थान।

अन्य कृषि कार्यक्रम और सहयोग।

Areas of focus under the RKVY

मोटे अनाजों सहित खाद्य फसलों का एकीकृत विकास।

मामूली बाजरा और दालें।

कृषि यंत्रीकरण।

मृदा स्वास्थ्य और उत्पादकता।

रेनफेड फार्मिंग सिस्टम का विकास।

एकीकृत हानिकारक कीट प्रबंधन।

विस्तार सेवाओं को बढ़ावा देना।

पशुपालन, डेयरी और मत्स्य पालन।

सेरीकल्चर।

किसानों के अध्ययन भ्रमण।

जैविक और जैव उर्वरक।

अभिनव योजनाएँ।

Related Article



PM Kisan Tractor Yojana | प्रधानमंत्री किसान ट्रेक्टर योजना

Pradhan Mantri Awas Yojana scheme 2020

Are You Watching  subsidy related Video Please Subscribe


Tractors Wale

 

Summary
Rashtriya Krishi Vikas Yojana Scheme
Article Name
Rashtriya Krishi Vikas Yojana Scheme
Description
Rashtriya Krishi Vikas Yojana Scheme is to develop the agriculture strategies, and to meet the needs of farmer 2021.
Author
Publisher Name
Tractors wale
Publisher Logo

Leave comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *.